class 10 sanskrit subjective question 2023

बिहार बोर्ड क्लास 10 संस्कृत का SUBJECTIVE का नोट्स डाउनलोड करें फ्री में : class 10 sanskrit subjective question 2023

बिहार बोर्ड क्लास 10 संस्कृत का SUBJECTIVE का नोट्स डाउनलोड करें फ्री में : class 10 sanskrit subjective question 2023

 

हेलो फ्रेंड स्वागत है आपका askclass.in में आज के इस वीडियो में हम आपको बताएंगे कि आप लोग संस्कृत का सब्जेक्ट का 40 महत्वपूर्ण प्रश्न का नोट्स आप लोग कैसे डाउनलोड कर सकते हैं तो आज के इस पोस्ट में हम यही आपको बताने वाले हैं तो इस पोस्ट को आप लोग शुरू से लेकर अंत तक पड़ेगा ताकि आप लोग सब्जेक्टिव क्वेश्चन का नोट्स डाउनलोड कर सकें

class 10 sanskrit subjective question 2023

subjective question को कैसे याद रखें 

अब हम आपको बताएंगे कि आप लोग सब्जेक्टिव क्वेश्चन को कैसे हमेशा के लिए याद रखेंगे तो सबसे पहले आपको सब्जेक्टिव क्वेश्चन को काफी ध्यान पूर्वक समझना पड़ेगा और जब आप लोग सब्जेक्टिव क्वेश्चन समझ लेते हैं तो उससे आप लोग अपने नोटबुक पर उसे लिख लीजिए और उसका हफ्ते में एक बार आपको रिवीजन करना पड़ेगा अगर हफ्ते में एक बार आप लोग रिवीजन कर लेते हैं तो वह प्रश्न आपको हमेशा हमेशा के लिए याद हो जाएगा और जितने भी टॉपर स्टूडेंट होते हैं वह यही तकनीक अपनाते हैं

 

SUBJECT डाउनलोड लिंक 👇
संस्कृत SUBJECTIVE LINK
YOUTUBE चैनल LINK SUBSCRIBE

प्रश्न 1. पाटलिपुत्र के प्राचीन महोत्सव का वर्णन करें।

उत्तर ⇒ पाटलिपुत्र में शरदऋतु में कौमुदी महोत्सव बड़ी धूम-धाम से मनाया जाता था। सभी नगरवासी खुश हो जाते थे। इस समारोह का प्रचलन गुप्तवंश के शासनकाल में हुआ था। आजकल जिस तरह दुर्गापूजा मनाई जाती है, उसी प्रकार प्राचीनकाल में कौमुदी महोत्सव मनाया जाता था।

प्रश्न 2. पटना के मुख्य दर्शनीय स्थलों का नामोल्लेख करें।

उत्तर ⇒ गोलघर, तारामण्डल, जैविक उद्यान, उच्च न्यायालय, सचिवालय, गुरुद्वारा आदि पटना के मुख्य दर्शनीय स्थल हैं।

प्रश्न 3. नदी और विद्वान् में क्या समानता हैं ?

उत्तर ⇒ मुण्डकोपनिषद् में महर्षि वेदव्यास का कहना है कि जिस प्रकार बहती हुई नदियाँ अपने नाम और रूप, को छोड़कर समुद्र में मिल जाती हैं उसी प्रकार विद्वान् पुरुष अपने नाम और रूप, अर्थात् अहम् को त्यागकर ब्रह्मा को प्राप्त कर लेता है।

 

प्रश्न 4. आत्मा का स्वरूप कैसा है, वह कहाँ रहती है ?

उत्तर ⇒ कठोपनिषद में आत्मा के स्वरूप को बहुत अच्छे तरह से बताया गया है । आत्मा मनुष्य की हृदय रूपी गुफा में अवस्थित है। यह अणु से भी सूक्ष्म है। यह महान् से भी महान् है। इसका रहस्य समझने वाला सत्य को अपनाता है और वह शोकरहित होता है।

 

प्रश्न 5. आलसशाला के कर्मचारियों ने आलसियों की परीक्षा क्यों और कैसे ली ?

उत्तर ⇒ अलसशाला में आलसियों की सुख-सुविधाओं को देखकर कृत्रिम आलसियों की भीड़ जुटती गई,  जिससे अलसशाला का खर्च बेवजह बढ़ गया था । अतः, अलसशाला के व्यर्थ खर्च को रोकने तथा सही आलसियों की पहचान के लिए अलसशाला में आग लगा दी गई, जिससे नकली आलसी भाग गए। और सही आलसी लोग रह गए

प्रश्न 6. सिख संप्रदाय के लोगों के लिए पटना नगर क्यों महत्त्वपूर्ण है

उत्तर ⇒ सिख संप्रदाय के लोगों के लिए पटना नगर पूजनीय स्थल में से एक है। यहाँ उनके दसवें गुरु गोविंद सिंह का जन्म स्थान है । यह स्थल गुरुद्वारा के नाम से जाना जाता है

प्रश्न 7. आधुनिक काल की किन्हीं तीन संस्कत लेखिकाओं के नाम लिखें।

उत्तर ⇒ आधुनिक काल की तीन लेखिकाओं के नाम निम्नलिखित हैं-पुष्पा दीक्षित, वर्णमाला भवालकर और मिथिलेश कुमारी मिश्र

प्रश्न 8. भारतीय लोगों की सर्वाधिक महत्त्वपूर्ण विशेषता क्या हैं ?

उत्तर ⇒ भारत में जन्म लेकर लोग धन्य हो जाते हैं और हरि की सेवा करते हैं। उन्हें स्वर्ग और मोक्ष प्राप्त यही से होता है। भारतीय धर्म और जाति के भेदभावों को न मानते हुए एकता के भाव से रहते हैं। सभी भारतीयों में देशभक्ति होती है

प्रश्न 9. देवगण भारत के गीत क्यों गाते हैं ?

उत्तर ⇒ देवगण भारत देश का गुणगान करते हैं। क्योंकि, भारतीय भूमि स्वर्ग और मोक्ष प्राप्त करने का साधन है। मनुष्य भारत भूमि पर जन्म लेकर भगवान हरि की सेवा के योग्य बन जाते हैं।

प्रश्न 9. देवगण भारत के गीत क्यों गाते हैं ?

उत्तर ⇒ देवगण भारत देश का गुणगान करते हैं। क्योंकि, भारतीय भूमि स्वर्ग और मोक्ष प्राप्त करने का साधन है। मनुष्य भारत भूमि पर जन्म लेकर भगवान हरि की सेवा के योग्य बन जाते हैं।

प्रश्न 10. विद्यापति कौन थे ? उन्होंने किस ग्रंथ की रचना की ?

उत्तर ⇒ विद्यापति एक महान् कवि एवं लेखक थे। इन्होंने पुरुष परीक्षा नामक ग्रंथ की रचना की। संस्कृत भाषा में लिखित पुरुष परीक्षा में अनेक मानवीय गुणों के महत्व का वर्णन है तथा दोष के निराकरण के लिए शिक्षा दी गयी है। विद्यापति लोकप्रिय मैथिलकवि थे। ये संस्कृत ग्रंथों के रचयिता भी थे।

 

 

 

Leave a Comment

Your email address will not be published.

You cannot copy content of this page